जेटली बोले देशी कागज पर ही छपेंगे नोट

ब्यूरो, होशंगाबाद : वित्त मंत्री ने शनिवार को यहां करेंसी पेपर की मैन्यूफैक्चरिंग के लिए नई प्रोडक्शन लाइन का शुभारंभ किया। इसे मेक इन इंडिया पहल की दिशा में बढ़ाया गया कदम करार देते हुए जेटली ने कहा कि इससे सुनिश्चित होगा कि अब देशी कागज पर ही बड़े मूल्य के नोटों की छपाई होगी।अरुण जेटली ने एक हजार नोटों के कागज की पहली खेप को हरी झंडी दिखाकर छपाई के लिए नाशिक रवाना किया। इसके बाद उन्होंने इटारसी-होशंगाबाद के बीच स्थित पंवारखेड़ा में प्रदेश के सबसे बड़े लॉजिस्टिक हब का लोकार्पण किया। छह अरब की लागत से बनने वाले हब के पहले चरण का काम पूरा हुआ है।

31058इससे क्षेत्र में कृषि और व्यवसाय के अवसर बढ़ जाएंगे। जेटली ने कहा कि यह स्वदेशी, स्वाभिमान और आत्मनिर्भरता की ओर बड़ा कदम है। अभी तक देश की करेंसी के लिए विदेश से कागज आयात करना पड़ता था। अब देशी कागज पर ही नोट छपेंगे। उन्होंने कहा कि इस यूनिट से सालाना छह हजार टन कागज का उत्पादन होगा। यह ईको फ्रेंडली अत्याधुनिक यूनिट है, जिसमें ऑनलाइन मॉनिटरिंग सिस्टम है। जल्द ही मैसूर में 12 हजार टन की क्षमता वाली दो यूनिटें शुरू की जाएंगी। इससे देशी कागज की कुल क्षमता 18 हजार टन हो जाएगी। 1होशंगाबाद को चुनने की वजह : होशंगाबाद को कई दशक पहले मोरारजी देसाई ने नोट छपाई के लिए कागज उत्पादन केंद्र के तौर पर चुना था जो तत्कालीन वित्त मंत्री थे और बाद में पीएम बने। हालांकि, यहां से कम मूल्य वाले मुद्रा नोट के लिए कागज का उत्पादन होता रहा है।

Advertisements