कानपुर: जाजमऊ की 98 बंद टेनरियों का बिजली कनेक्शन जुड़ने का काम गुरुवार को शुरू हो गया।

d3072जाजमऊ की 98 बंद टेनरियों का बिजली कनेक्शन जुड़ने का काम गुरुवार को शुरू हो गया। टेनरियों में मजदूर फिर से लौटे हैं और काम शुरू कर दिया गया है। इलेक्ट्रो मैग्नेटिक फ्लोमीटर के साथ ही एनजीटी द्वारा तय मानक पूरे करने के बाद अब टेनरी मालिक नये सिरे से टेनरी संचालन कर रहे हैं। अब शनिवार से एनजीटी द्वारा गठित संयुक्त टीम के निरीक्षण के बाद इन टेनरियों का भविष्य तय होगा।गंगा में प्रदूषण फैलाने के आरोप में नेशनल ग्रीन टिब्यूनल के आदेश पर जनवरी माह में जाजमऊ की 98 टेनरियों की बिजली काट दी गई थी। एनजीटी में सुनवाई के बाद बीती 26 मई को यह तय हुआ कि टेनरियों की बिजली जोड़कर निकलने वाले उत्प्रवाह की जांच होगी। जांच के बाद जो दोषी पाया जाएगा, उस पर कार्रवाई की जाएगी।

इसके लिए छह से 24 जून तक का समय दिया गया है जिसमें यह टेनरियां चालू रहेंगी। गुरुवार को कई टेनरियों की बिजली जोड़ी गई। इसके साथ ही कई टेनरियों में मजदूर सूखा काम करते दिखे। अधिकांश टेनरी संचालकों ने एनजीटी के निर्देश पर इलेक्ट्रो मैग्नेटिक फ्लोमीटर लगा लिया है, जो कि टेनरी से कितना उत्प्रवाह निकल रहा है इसकी रीडिंग करेगा। इसके साथ ही क्रोमियम रिकवरी के लिये भी टेनरी मालिकों ने अपने प्लांट को अपग्रेड किया है। अब एनजीटी के सदस्य जाजमऊ स्थित सभी टेनरियों से सीवेज का सैंपल लेंगे और उसके जांच के बाद जो नतीजे आयेंगे उसी के आधार पर टेनरी को संचालन की सहमति दी जायेगी। स्माल टेनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष हफीजुर्रहमान ने बताया कि टेनरी मालिकों ने एनजीटी के निर्देश का पालन करते हुए उनके मानक के अनुरूप तैयारी कर ली है। जांच के दौरान टेनरी मालिक पूरा सहयोग करेंगे।

फ्लोमीटर में आती थी दिक्कतअधिकतर छोटी टेनरियों में इलेक्ट्रो मैग्नेटिक फ्लोमीटर से पूर्व मैकेनिकल फ्लोमीटर लगता था। इस फ्लोमीटर के अंदर चलने वाला पंखा सीवेज की वजह से कई बार जाम होकर खराब हो जाता था। इससे कितना उत्प्रवाह हुआ इसका पता नहीं चलता था। इसी पर आपत्ति करते हुए एनजीटी ने इलेक्ट्रो मैग्नेटिक फ्लोमीटर लगाने के निर्देश दिए थे।1यह संयुक्त टीम करेगी जांच 1एनजीटी (नेशनल ग्रीन टिब्यूनल) द्वारा गठित संयुक्त टीम में उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और आईआईटी की संयुक्त टीम 6 से 24 जून तक कुल 19 दिनों में इन टेनरियों के उत्प्रवाह की जांच करेगी। उत्प्रवाह के नमूने लेने के साथ ही इलेक्ट्रो मैग्नेटिक फ्लोमीटर लगे होने की भी जांच होगी। संयुक्त टीम द्वारा रिपोर्ट जमा करने के बाद 25 जुलाई को दोबारा एनजीटी इस मामले की सुनवाई करेगा।

Advertisements