सोना पांच साल के निचले स्‍तर पर, घरेलू बाजार में भाव 25000 के नीचे आया

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय और घरेलू बाजार में सोने की कीमतों में सोमवार को भारी गिरावट देखने को मिली। अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना पांच साल के निचले स्तर पर आ गया। जबकि घरेलू बाजार में सोने की कीमतें 25,000 रुपए प्रति 10 ग्राम के नीचे चली गईं, जो कि चार साल का निचला स्‍तर है। चीन के शंघाई गोल्‍ड एक्‍सचेंज की तरफ से अचानक सोने में भारी बिकवाली, अमेरिकी में ब्‍याज दरें बढ़ने की संभावना और डॉलर की मजबूती से सोने की कीमतों में अचानक तेज गिरावट आई है। एक्‍सपर्ट्स का कहना है कि सोने की कीमतों में गिरावट आगे भी बनी रह सकती है। अगले 2 से 3 महीने में सोने की कीमतें लुढ़क कर 24,000 रुपए प्रति 10 ग्राम तक आ सकती हैं।
updated 23.07.2015
4 फीसदी तक सस्ता हुआ सोना
सोमवार को कॉमैक्स पर सोना करीब 4 फीसदी की गिरावट के साथ 1080 डॉलर प्रति औंस के स्तर आ गया, जो कि 2010 के बाद का निचला स्तर है। हालांकि उसके बाद रिकवरी देखने को मिली और फिलहाल सोना 2.20 फीसदी की गिरावट के साथ 1107 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार कर रहा है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में आई गिरावट का असर घरेलू बाजार में भी दिखाई दिया और एमसीएक्स पर सोने की कीमतें फिसलकर 24,904 रुपए तक आ गई हैं, जो कि अगस्त 2011 के बाद निचला स्तर है।
सोना होगा और सस्ता
इंडियन बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष मोहित कंबोज ने मनीभास्कर को बताया कि अगले दो महीने में सोने की कीमतें 24,000 रुपए प्रति 10 ग्राम तक आ सकती हैं। कंबोज के मुताबिक लगातार यह तीसरा वर्ष होगा, जब सोना निवेशकों को नेगेटिव रिटर्न देगा। यही वजह है कि निवेशक सोने की जगह अन्य एसेट में निवेश कर रहे हैं। दूसरी ओर, आम खरीदार सोना और सस्ता होगा इसके इंतजार में है, जिसकी वजह से मांग घट रही है। बीते ढाई साल में सोना करीब 7,000रुपए तक सस्ता हो चुका है। 2012 में सोने की कीमतें 32,000 रुपए प्रति 10 ग्राम के पार पहुंच गई थीं।
kanpur_1435054797कमोडिटी एक्‍सपर्ट क्‍या मानतें हैं गिरावट की वजह
केडिया कमोडिटी के प्रबंध निदेशक अजय केडिया ने मनीभास्‍कर को बताया कि सोने का फंडामेंटल कमजोर है। इसकी वजह से सोना अगले तीन महीने में 24,000 रुपए प्रति 10 ग्राम का स्तर दिखा सकता है। केडिया के मुताबिक इस साल अमेरिका में दो बार ब्याज दरें बढ़ने की संभावना है। इसकी वजह से डॉलर में जोरदार उछाल आया है, जिससे सोना टूट रहा है। इसके साथ ही दुनिया दो सबसे बड़े उपभोक्ता देश चीन और भारत की ओर से सोने की मांग लगातार गिर रही है।
एसएमसी ग्लोबल के रिसर्च हेड रवि सिंह ने मनीभास्‍कर को बताया कि सोने की कीमतों में अचानक आई गिरावट की प्रमुख वजह शंघाई गोल्ड एक्सचेंज की ओर से सोमवार को 5 टन सोने की बिक्री है। इसकी वजह से सोने की कीमतें क्रैश हो गईं। हालांकि, सोने की कीमतों में बड़ी गिरावट आ चुकी है,जिसकी वजह से रिकवरी की संभावना है। अगले तीन महीने के दौरान सोने की कीमतें 24,700 से 25,300 रुपए प्रति 10 ग्राम के बीच रह सकती हैं।
Advertisements