नवरात्र का फलाहार आपकी जेब पर भारी पड़ सकता है।

नवरात्र का फलाहार आपकी जेब पर भारी पड़ सकता है। पिछले साल के मुकाबले इस बार के फलाहार के लिए 20 फीसदी से अधिक कीमत चुकानी पड़ेगी। शहर की फुटकर मंडियों की कीमतों के लिहाज से यह आपकी जेब पर और भारी पड़ेगा। एक परिवार में अगर नवरात्र के दौरान रोजाना एक किग्रा सेब, एक दर्जन केले, आधा किलो आलू, एक किलोग्राम पपीते की खपत होती है, तो फिलहाल फुटकर मंडी की कीमत के मुताबिक इन फलों की खरीदारी के लिए 150 रुपए (इसमें सेब की कीमत 80 रुपए किलो लगाई गई है)चुकाने होंगे। मंडी के कारोबारियों के मुताबिक सेब के कम उत्पादन के चलते इस बार सेब महंगा है।

पड़ोसी देश पाकिस्तान से आने वाला आम भी एक पखवारे में खत्म हो जाएगा। नवरात्र के चलते फलों के दाम आसमान छू रहे हैं। वहीं केले के दाम कुछ कम है। बाजार में संतरा और सेब आने से फलाहारियों को कुछ राहत मिलेगी। व्यापारियों की मानी जाए तो नवरात्र का त्योहार होने के चलते सबसे ज्यादा मांग केला और सेब की हैं। नासपाती और माल्टा जैसे कई फल फुटकर बाजार में मौजूद हैं। साकेत नगर के फल व्यापारी जीतेन्द्र गुप्ता ने बताया कि नए फलों का आना अक्टूबर माह से शुरू होगा।

मटर मसूर छोड़ सभी दलों के रेट बढे । चीनी तेल के भाव गिरे,सब्ज़ियां स्थिर

fruit-market-rate-navratri

मटर मसूर छोड़ सभी दलों के रेट बढे । चीनी तेल के भाव गिरे ,सब्ज़ियां स्थिर

 

phutkar-rate

Advertisements