कानपुर :डिजाइनर साड़ियां, इंडो वेस्टर्न, वे¨डग गाउन सूट और लहंगों से करवाचौथ का बाजार पट गया

कानपुर:

डिजाइनर साड़ियां, इंडो वेस्टर्न, वे¨डग गाउन सूट और लहंगों से करवाचौथ का बाजार पट गया है। डिजाइनर साड़ियों का गढ़ कहे जाने वाले कानपुर के जनरलगंज थोक मार्केट में ग्राहकों के साथ गैर जनपदों के व्यापारी भी खूब खरीदारी कर रहे हैं। इसके साथ ही गोविन्द नगर, पी रोड, नवीन मार्केट, पीपीएन मार्केट, लालबंगला, दर्शन पुरवा, पुरानी दाल मंडी नयागंज, स्वरूप नगर, आर्य नगर, कर्रही, किदवईनगर, कल्याणपुर जैसी रिटेल मार्केट में भी साड़ियों और लहंगों की बड़ी रेंज मौजूद है। पिछले वर्ष सूखे और मंदी के चपेट में बाजार आने से कारोबार काफी प्रभावित हुआ था। इस बार दिवाली के बाद छठ पूजा, और सहालग का असर भी बाजार में दिख रहा है, कारोबारियों की माने तो इस बार 500 से 600 करोड़ रुपए का कारोबार होने का अनुमान है। लहंगे और साड़ी का शौक होगा पूरा सूरत, कलकत्ता और जयपुर से आने वाली रेडीमेड लहंगा साड़ी का क्रेज महिलाओं और युवतिओं के सिर चढ़कर बोल रहा है।

पिछले बार की अपेक्षा इस बार चार गुना बिक्री का अनुमान

कानपुर :डिजाइनर साड़ियां, इंडो वेस्टर्न, वे¨डग गाउन सूट और लहंगों से करवाचौथ का बाजार पट गया

खास बात यह है कि इसे पहनने के बाद आपकों को लहंगा और साड़ी दोनो का अहसास होगा। जर्कन और मोती के संग आई नेट की साड़ियां : जर्कन और मोती की डिजाइनों में आने वाली नेट की साड़ियोंम का जुनून दिख रहा है। प्लेन हैवी ब्लाउज और साड़ी में लाइट बार्डर होता है। आकर्षक डिजाइनों में आने वाली इन साड़ियों की मांग ज्यादा है। साहूलियत से रखी जाएं तो इसकी लाइफ कई सालों तक होती है। राजस्थानी साड़ी में मल्टीकलर ब्राइड मैचिंग होती है। जिसके दाम बाजार में 5,000 से 30,000 हजार रुपए के बीच में है।सिल्क के मोहपाश में लीन महिलाएं बैंगलोर और बनारस से आने वाली सिल्क साड़ियों की अपनी बाजार में अलग ही धमक है। कांजीवरम का है। सिल्क साड़ियों के दाम एक हजार से से 35,000 रुपए तक है। जबकि कांजीवरम साड़ियों के दाम 7 हजार से 20 हजार रुपए तक है। सिर चढ़कर बोल रहा, ब्राइडल लहंगासाड़ियों और लहंगे के शोरूम में खड़े स्टेचू को ढके ब्राइडल लहंगे नए शादी शुदा जोड़ों की पहली पसंद हैं। करवाचौथ को लेकर महिलाएं और युवतियां इसकी खूब खरीदारी कर रहीं है। आकर्षक डिजाइनों में आए सवा लाख रुपए की लागत के लहंगे शोरूम के शोकेस में ग्राहकों की खरीदारी का इंतजार कर रहें है। 50 हजार से उपर के लहंगो में कसब वर्क और रेशम वर्क और हैंडमेड वर्क की डिजाइन होने के चलते इसके दाम और बिक्री ज्यादा है।

Advertisements