कानपुर। धनतेरस के पर्व पर धनवर्षा से चहक उठे बाजार

कानपुर। धनतेरस के पर्व पर सजे हुए बाजार। घर में लाओ आज कुछ, नए-नए उपहार। झालर-दीपों से सजे, आज सभी के गेह। मन के नभ से आज तो बरसे मधुरिम नेह। डॉ रूपचंद्र शाी की ये पंक्तियां शुक्रवार को शहर के बाजारों में जीवंत दिख रही थीं। किसी भी बाजार में कदम रख दीजिए खुशियां बिखरी हुई थीं। बनखंडेश्वर मंदिर चौराहे पर फूल बेच रही मालिन के चेहरे पर भी खुशी थी और नवीन मार्केट के पास गुब्बारा बेच रहा भोलू भी चहक रहा था। ऐसा इसलिए कि उनके हाथों से सामान झटपट बिक रहा था और जेब में चार पैसे जा रहे थे। धनतेरस पर इस तरह का नजारा सिर्फ प्रमुख बाजारों में ही नहीं था बल्कि मोहल्लों की छोटे-छोटे बाजारों में भी ग्राहकों की भीड़ थी। उल्लास में डूबे पर्व की लाइव रिपोर्ट..

महापर्व दीपावली का शुभारंभ शुक्रवार को धनतेरस के साथ हो गया। शहर की सड़कें सुबह से ही उल्लास के जाम से दो-चार होने लगी थीं। बड़ी-बड़ी सड़कों से लेकर संकरी-संकरी गलियां रोशनी से जगमग थीं। लाखों-करोड़ों का माल समेटे शोरूम में भी ग्राहक खचाखच भरे थे तो ठेले वालों के पास भी फुर्सत नहीं थी। बिरहाना रोड में लक्ष्मी-गणोश की मूर्ति को बारीकी से परख रहे एक सरकारी बैंक के चीफ मैनेजर मनोज गौतम की कानपुर में पहली दिवाली है। गुवाहाटी से ट्रांसफर होकर शहर आए मनोज यहां की चकाचौंध से बेहद प्रभावित थे। पूछने पर बोले, कानपुर ट्रांसफर हुआ तो लोगों ने इस शहर के बारे में काफी कुछ उल्टा-सीधा बताया था लेकिन 28 साल की नौकरी में नौ शहर घूमा हूं, कानपुर जैसी दिलदारी और यारी कहीं देखने को नहीं मिली। फिर बोले, त्योहार का अर्थ है मिलकर खुशियां बांटना। दो साल में सूखे और बेमौसम बारिश से बेहाल लोगों के लिए ये दिवाली सच में खुशियां लेकर आई है क्योंकि सातवें वेतन आयोग से बढ़ी सेलरी से नौकरीपेशा की जेब में कुछ अतिरिक्त रकम है, वहीं अच्छी बारिश से किसानों के सूखे चेहरों पर भी रंगत है। चूंकि पूंजी का प्रवाह भी गांव से शहर की तरफ होता है इसलिए शहरों में गांव की खुशी का असर साफ दिखाई पड़ा। सराफा, वाहन, मिठाई, सजावट, बर्तन..हर व्यापार पर लक्ष्मी मेहरबान दिखीं।

बर्तन बाजार में इस बार डिजायनर बर्तनों की भारी मांग रही। भूसाटोली, हटिया,सीसामऊ सहित शहर भर में फैली छोटी-छोटी दुकानों में आधी रात के बाद भी ग्राहकों की भारी भीड़ थी। दो साल बाद बर्तन की दुकानों में रौनक छाई थी। इस बार बर्तनों की बिक्री 40 फीसदी तक ज्यादा हुई। पिछली बार की अपेक्षा इस बार दिवाली में बर्तनों के दाम लगभग बराबर थे। पीतल, तांबा, फूल और एल्युमिनियम के बर्तन भी खूब बिके। लेजर से तैयार डिजायनर बर्तनों के मुरीद कम न थे।

होम डेकोरेशन, इंटीरियर डेकोरेशन और गिफ्ट पैक के बाजार ने तेजी से करवट ली है। इस बार धनतेरस में डेकोरेशन और होम एप्लायसेंस से जुड़े उत्पाद सबसे ज्यादा डिमांड में रहे। एलईडी टीवी, डबल डोर फ्रिज, माइक्रोवेव ओवन जैसे किचन के हाईटेक उत्पादों की बिक्री पिछले साल के मुकाबले दोगुना थी। अकेले इलेक्ट्रानिक्स में ही 100 करोड़ से ज्यादा का माल एक दिन में बिक गया। होम डेकोरेशन, होम फर्नि¨शग से जुड़े बाजार पर भी 120 करोड़ की कृपा बरसी। करीब 60 करोड़ के इलेक्ट्रानिक उत्पादों का कारोबार हुआ।

सोना-चांदी में तेजी के बावजूद सराफा बाजारों की सेहत पर कोई असर नहीं पड़ा। यहां आधी रात तक खरीदारी जारी रही। बिरहाना रोड में लाला काशीनाथ सेठ ज्वैलर्स, लाला पुरुषोत्तम दास ज्वैलर्स, पीबी सोसाइटी ज्वैलर्स समेत सभी शोरूमों में भीड़भाड़ रही। वहीं, गोविंदनगर में आर लाला जुगुलकिशोर एंड संस समेत शहर के अन्य बाजारों के शोरूम भी खरीदारों से गुलजार रहे। डायमंड ज्वैलरी का क्रेज पिछले साल के मुकाबले 20 फीसदी ज्यादा रहा। अपर क्लास में कुंदन और पोल्की के सेट खास पसंद किए गए। 120 किलो से ज्यादा सोने की गिन्नी, सिक्के और नोट बिक गए। सिक्के, नोट और बिस्कुट के रूप में 50 करोड़ की चांदी बिक गई।

नवरात्र में पांच दिनों की बैंक की छुट्टियों ने आटो मोबाइल बाजार पर गंभीर असर डाला था। उसकी भरपाई धनतेरस से हो गई। एक दिन में 1200 से ज्यादा कारों की डिलीवरी डीलरों ने की। मारुति, हुंडई, होन्डा, शेवरले, फोर्ड, महिन्द्रा, टाटा, फिएट की बिक्री ने पिछले सालों के रिकार्ड तोड़े। पांच से दस लाख कीमत वाली कारों का शेयर सबसे ज्यादा रहा। करीब 60 फीसदी कारें इसी सेगमेंट की शोरूमों से उठीं। नंबर दो पर एसयूवी कारें रहीं। लग्जरी कारों की बिक्री भी अच्छी खासी हुई। धनतेरस पर 30 लाख से एक करोड़ रुपए तक की 40 कारें ग्राहकों को बेची गईं। इसी तरह एक दिन में 6000 से ज्यादा दोपहिया वाहनों की डिलीवरी ग्राहकों ने ली।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s