कानपुरः नोटबंदी से शराब की बिक्री में आई 40 फीसदी की कमी

Wine sell decreased 40 percent after note ban

कानपुर
wine-sale-decreased-in-kanpurहजार और पांच सौ के नोट क्या बंद हुए, शौकीन लोगों ने शराब की दुकानों से मुंह ही मोड़ लिया। सूरज ढलने के बाद शराब की दुकानों पर नशे के शौकीन लोगों की भीड़ व लाइनें दिखनी कम हो गई हैं। अब दुकानों पर इक्का-दुक्का ग्राहक ही आ रहा है। जिले का आबकारी विभाग भी परेशान है, क्योंकि उसके राजस्व में भी भारी गिरावट हो रही है। वैसे 8 नवंबर की रात को जब प्रधानमंत्री ने पुराने नोटों पर प्रतिबंध लगाया था तब रात साढ़े 8 बजे से रात 11 बजे तक लोगों ने पुराने नोटों से काफी मात्रा में शराब खरीदी थी, लेकिन जो लोग चूक गए थे वह अब पैसे न होने की वजह से शराब की दुकानों पर जाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं।

जिला आबकारी अधिकारी देवराज सिंह ने बताया कि 9 नवंबर से शराब की बिक्री में करीब चालीस फीसदी की कमी आई है। आम दिनों में कानपुर शहर में रोज करीब 21 हजार बोतल अंग्रेजी शराब, 40 हजार बोतल बियर तथा करीब 35 हजार लीटर देशी शराब की बिक्री होती थी। इस तरह हम प्रति महीने औसतन करीब सात लाख बोतल अंग्रेजी शराब, करीब 12 लाख बोतल बियर और करीब 15 लाख लीटर देशी शराब की बिक्री करते थे।

ये आंकड़े किसी महीने कम हो जाते थे, तो त्योहार या शादी आदि के सीजन में बढ़ जाते थे। उन्होंने बताया कि जबसे पुराने नोटों पर रोक लगी है, तब से शराब की दुकानों पर सन्नाटा छाया हुआ है और शराब की बिक्री में करीब 40 प्रतिशत कमी आई है। जब शराब की बिक्री कम होगी तो सरकार को राजस्व भी कम मिलेगा, क्योंकि नए नोट से अभी शराब खरीदने वालों की संख्या बहुत ही कम है और पुराने नोट न लेने के निर्देश सभी शराब की दुकानों पर दे दिए गए हैं।

read-more

कानपुर-बिज़नस न्यूज़

 

auto-spare-parts-banner
बाजारों में 1200 करोड़ की धनवर्षा (10/18/2017) - प्रकाश और समृद्धि के पर्व दीपोत्सव का आगाज मंगलवार को धनतेरस से हो गया। इस मौके पर शहर के बाजार खरीदारों से गुलजार हो गए। नवीन मार्केट में ग्राहकों की भारी भीड़ उमड़ी। यहां देर रात तक लोग जमकर खरीदारी करते रहे। वाह! क्या रौनक बिखरी है बाजार में..धनतेरस की रौनक के आगे जीएसटी की…
9 साल पहले इस महिला ने शुरू किया स्टार्टअप, पति ने कहा- अन्नपूर्णा है मेरी Wife (9/21/2017) - कानपुर. यूपी के कानपुर की नितिका टंडन ढल बिजनेस वीमेन के लिस्ट में शामिल हो गई हैं। ये फूडू पिज्जा और वेजी हब के नाम से 2 रेस्टोरेंट चला रही है। जिसमें इनके पति शरद इनका बराबर साथ दे रहें हैं। पति का कहना है कि उनकी पत्नी साक्षात अन्नपूर्णा है। नितिका ने बिजनेस वीमेन बनने…
जीएसटी लागू होने के पहले दिन शनिवार को मॉल्स में ऑफर, बाजारों में सन्नाटा (7/2/2017) - कानपुर कार्यालय संवाददाताजीएसटी लागू होने के पहले दिन शनिवार को साउथ एक्स समेत शहर के कई मॉल्सों में खरीदारी कम और नए कर से जुड़े सवाल ज्यादा पूछते नजर आए शहरी। इससे साफ है कि लोग असमंजस में हैं कि जीएसटी लागू होने से वह फायदे में हैं या उनकी जरूरतों की चीजों के दामों…
कपड़ा बाजार बंद, 40 करोड़ की चपत (6/28/2017) - टेक्सटाइल और बिना सिले कपड़े पर पांच फीसदी जीएसटी के विरोध में आहूत बंद का जबर्दस्त असर देखने को मिला। तीन दिवसीय हड़ताल के पहले दिन कानपुर के सभी थोक कपड़ा बाजारों के शटर तक नहीं उठे। एक दिन की बंदी से 40 करोड़ रुपए के कारोबार का नुकसान व्यापारियों को उठाना पड़ा। आम सभा…
नोटबंदी: कैश की किल्लत से लेकर बिजनेस पर पड़ी मार (12/29/2016) - सरकार द्वारा आठ नवंबर को देशभर में नोटबंदी की घोषणा के बाद देश के अधिकतर बैंकों और एटीएम के बाहर लोगों की भीड़ देखने को मिली। किसी बैंक में कैश नहीं तो किसी एटीएम में नकदी की किल्लत।
73 फीसदी नए नोट दबा गए कनपुरिए (12/23/2016) - पांच सौ और हजार के नोटबंद होने के बाद से अब तक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया कानपुर के लिए करीब 5200 करोड़ रुपए जारी कर चुका है, लेकिन इनमें से सिर्फ 1400 करोड़ रुपए वापस बैंकों में पहुंचे हैं। ऐसे में करीब 73 फीसदी लोगों ने नए नोट दबा लिए हैं। यही वजह है कि…
कानपुर के ज्वैलर्स के घर समेत चार दुकानों में आयकर का छापा – (12/14/2016) - कानपुर. जिला कानपुर की आयकर विभाग टीम ने बुधवार को एक ज्वैलर्स के घर समेत चार दुकानों में एक साथ छापेमारी की है। आईटी टीम के साथ छापेमारी से मालिक समेत दुकानदारों में हड़कम्प मच गया है। स्वरूपनगर में रहने वाले दिलीप अग्रवाल पेशे से आभूषणों का कारोबार करते है। उनके स्वरूपनगर, नयागंज, पीपीएन मार्केट…
एक माह पूरा, नोटों का संकट जस का तस (12/9/2016) - सरकारी नोट प्रिंटिंग प्रेस रात-दिन काम कर रहे हैं लेकिन जितना नकदी हटाई गई है उसे नए नोटों में वापस लाने में महीनों का समय लगेगा।
सब्जी कारोबार पर भारी अधूरी तैयारी (11/28/2016) - कानपुर दक्षिण संवाददाता : नोटबंदी की मार फल व सब्जी कारोबार पर पड़ रही है। बाजार में डिमांड के साथ ही नकदी का संकट है। ग्राहक बड़े नोट लेकर खरीदारी करने आ रहा है। व्यापार रेजगारी और उधारी से चल रहा है। दूसरे प्रदेशों में आवक न के बराबर हो गई है। फल व सब्जी…
सोच अच्छी लेकिन लागू करने का तरीका सही नहीं (11/28/2016) - कानपुर। नोटबंदी के बाद ई-भुगतान के आदेश से व्यापारी बेचैन हैं। दरअसल, बेचैनी भुगतान को लेकर नहीं बल्कि व्यवस्था बनाने की है। कारखानों में काम करने वाले अधिसंख्य मजदूरों के पास बैंक खाते ही नहीं हैं और लगभग सभी उद्योगों में दैनिक श्रमिक काम करते हैं। शाम को उन्हें नगद भुगतान देने की व्यवस्था है। सभी का यही कहना है कि कारोबारियों को भुगतान देना है चाहे नगद दें या बैंक खाते में लेकिन पहले मजदूरों को जागरूक किया जाना चाहिए।
Advertisements