नोटबंदी से रीयल इस्टेट धड़ाम

कानपुर संजय पाण्डेयपांच सौ और एक हजार के नोटबंदी का रीयल इस्टेट पर भी व्यापक असर पड़ा है। इसके चलते प्रॉपर्टी की खरीद-बिक्री से सरकार को होने वाली आय में भारी गिरावट आई है। नवंबर के पहले आठ दिनों को अलग कर दें तो पिछले वर्ष के मुकाबले रीयल एस्टेट व राजस्व आय का ग्राफ 14 दिन में 95 प्रतिशत तक लुढ़क गया है। थोड़ी बहुत रकम जो आई है उसके पीछे रजिस्ट्री फीस वजह बनी जिसमें, 500 व 1000 रुपए के पुराने नोट जमा करने की अनुमति थी। गुरुवार की रात से यह सुविधा भी खत्म हो गई है। नतीजा यह हुआ कि जिस रजिस्ट्री दफ्तर में पैर रखने की जगह नहीं होती थी, शुक्रवार व शनिवार को वहां केवल दो-तीन लोग आए थे। उसमें एक थी मां, तो दूसरी उनकी बेटी व एक-आध और। इन्हें भी किसी नए भूखंड या संपत्ति की रजिस्ट्री नहीं करानी थी। पहली बार ऐसा हुआ कि न सब रजिस्ट्रार के पास कोई काम था और न ही कर्मचारियों के पास। ई-स्टाम्प के काउंटर पर भी सन्नाटा पसरा था।d114667484

 

Advertisements