कानपुर के ज्वैलर्स के घर समेत चार दुकानों में आयकर का छापा –

कानपुर. जिला कानपुर की आयकर विभाग टीम ने बुधवार को एक ज्वैलर्स के घर समेत चार दुकानों में एक साथ छापेमारी की है। आईटी टीम के साथ छापेमारी से मालिक समेत दुकानदारों में हड़कम्प मच गया है।
स्वरूपनगर में रहने वाले दिलीप अग्रवाल पेशे से आभूषणों का कारोबार करते है। उनके स्वरूपनगर, नयागंज, पीपीएन मार्केट सहित शहर के कई प्रतिष्ठित बाजारों में बैजनाथ ज्वैलर्स के नाम से सोने-चांदी की दुकान है। बुधवार की सुबह इनकम टैक्स के ज्वाइंट कमिशनर अधिकारी केके मिश्रा के नेतृत्व में गठित टीम ने दिलीप अग्रवाल के घर समेत चार दुकानों में एक साथ छापेमारी की है। उनके साथ आईटी की टीम की भी मौजूद है। खबर लिखे जाने तक टीम ने उनके सभी ठिकानों में छापेमारी कर दस्तावेजों को एकत्र करने में जुटी हुई है। सूत्रों के अनुसार नोटबंदी के बाद इन प्रतिष्ठानों से सोने की खरीदपरोख्त में भारी मात्रा में हेराफेरी गई है।
ब्लैकमनी को सोने में खपाने का आरोप
kanpur
नोटबंदी की रात में शहर के अनेक बड़े-बड़े ज्वेलरो की दुकानें खुली रही थी। साथ नौ से लेकर 15 नवंबर के बीच धनकुबेरों ने अपनी ब्लैकमनी को सोने पर खपाया था। इसकी भनक इनकम टैक्स विभाग को थी, लेकिन जिला पुलिस के सहयोग न मिलने के चलते विभाग के हाथ बंधे थे। सूत्र बताते हैं कि अग्रवाल की दुकानों और घर में नपकम टैक्स को भारी संख्या में नए और पुराने नोट मिले हैं।
कार्रवाई के बाद आएंगे कई नाम
कानपुर में नोटबंदी के बाद पहली इनकम टैक्स विभाग की कार्रवाई है। इनकम टैक्स के ज्वाइंट कमिशनर अधिकारी केके मिश्रा ने बताया कि हमें जानकारी मिली थी कि अग्रवाल ज्वेलर्स की दुकानों में भारी संख्या में सोने की बिक्री की गई है। एक सप्ताह पहले हमने कानपुर एसएसपी को पत्र लिखकर पुलिसबल मुहैया कराए जाने की मांग की थी। विभाग को पुलिस मिल गई और आगे कई कारोबारियों की शिकायतें मिली हैं, जिन्होंने ब्लैकमनी को व्हाइट किया है।
Advertisements