अलर्ट: इन बैंको में है खाता, तो हो जाएं सावधान…कुछ ही दिनों में चेक बन जाएंगे रद्दी

अगर आपका बैंक खाता इन बैंकों में है तो सावधान हो जाइए, 30 सितंबर के बाद इन बैंकों के ‘चेक’ बेकार हो जाएंगे। अगर आप इन बैंकों के नई चेक बुक के लिए आवेदन नहीं किया है तो तुरंत करें। दरअसल भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने 5 पूर्व सहयोगी बैंकों और भारतीय महिला बैंक के ग्राहकों से अनुरोध किया है कि यदि उन्होंने SBI की नई चेक बुक के लिए आवेदन नहीं किया है तो तुरंत करें, क्योंकि पुरानी चेक बुक और IFS कोड 30 सितंबर के बाद अमान्य हो जाएंगे और वह बेकार हो जाएगा।

इस वजह से हो जाएंगे इनके चेक अमान्य

एक अप्रैल 2017 से एसबीआर्इ के अनुषंगी बैंकों स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर (एसबीबीजे), स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद (एसबीएच), स्टेट बैंक ऑफ मैसूर (एसबीएम), स्टेट बैंक ऑफ पटियाला (एसबीपी), स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर (एसबीटी) और भारतीय महिला बैंक (बीएमबी) का एसबीआर्इ में विलय हो चुका है। ऐसे में इनके पुरानी चेक बुक और IFS कोड 30 सितंबर के बाद अमान्य हो जाएंगे।

ऐसे करें नए चेक के लिए आवेदन

देश के सार्वजनिक क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक ने इन बैंकों के ग्राहकों से कहा है कि वे 11 दिनों के पहले इन पांच बैंकों से संबंधित चेकबुक का इस्तेमाल बंद कर दें। साथ ही नई चेकबुक पाने के लिए अभी से आवेदन करना शुरू कर दें, ताकि 30 सितंबर के बाद उन्हें लेन-देन करने में कोई परेशानी नहीं उठानी पड़े। नई चेक बुक के लिए इंटरनेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग, एटीएम या फिर शाखा में जाकर आवेदन करना होगा।

इस मामले में बैंक ने यह क्लीयर नहीं किया है कि यदि किसी के पास इन बैंकों के एडवांस पीडीसी चैक मौजूद हैं तो उनके चैक क्लीयर होंगे या नहीं। बता दें कि लोन के कई मामलों में उत्पाद विक्रय करने वाला ग्राहक से आने वाले 5 सालों तक के पीडीसी चैक ले लिया करते हैं। कई बार ऐसा भी होता है कि ग्राहक का पता बदल जाता है और उससे संपर्क करना आसान नहीं रहता। ऐसी स्थिति में पीडीसी चैक का क्या होगा, क्लीयर नहीं किया गया है।

Advertisements