कानून व्यवस्था के लिए खतरा बन गए सिक्के

कानपुर दक्षिण :किदवई नगर क्षेत्र में बुधवार को दुकानदार के सिक्के लेने से मना करने पर मारपीट हुई। आरोपियों ने ईंट-पत्थर और डंडे बरसाए।

व्यापारियों के पास जमा सिक्कों के ढेर कानून व्यवस्था के लिए खतरा बन गए हैं। आपके अखबार ‘हिन्दुस्तान’ ने इस मुद्दे को लगातार उठाया। इसके बाद आरबीआई ने बैंकों को सिक्के जमा करने निर्देश दिए थे और सिक्के न लेने पर कार्रवाई की चेतावनी दी थी। कुछ दिन बैंकों ने सिक्के लिए लेकिन फिर पुराने र्ढे लौट आए। इसी का नतीजा है कि बुधवार को दस के सिक्के न लेने पर सड़क पर खूनी संघर्ष हो गया। सिक्कों की वजह से हुआ ये संघर्ष शहर के किसी भी बाजार में कभी भी भड़क सकता है क्योंकि 500 करोड़ के ज्यादा के दस के सिक्के व्यापारियों के लिए बोझ बन गए हैं। इतने सिक्कों के बावजूद सिक्कों की सप्लाई आरबीआई से रुक-रुक कर जारी है। सबसे बड़ी समस्या बैंकों द्वारा सिक्के न लेने की है। आरबीआई ने साफ निर्देश दिए हैं कि बैंक एक ग्राहक से एक बार में एक हजार के सिक्के लेंगे लेकिन 90 फीसदी शाखाएं इसका पालन नहीं कर रही हैं।250 करोड़ की रेजगारी बनी कानून व्यवस्था के लिए खतरा

सिक्का न लेने पर बवाल, पथराव

Advertisements