बाजारों में 1200 करोड़ की धनवर्षा

प्रकाश और समृद्धि के पर्व दीपोत्सव का आगाज मंगलवार को धनतेरस से हो गया। इस मौके पर शहर के बाजार खरीदारों से गुलजार हो गए। नवीन मार्केट में ग्राहकों की भारी भीड़ उमड़ी। यहां देर रात तक लोग जमकर खरीदारी करते रहे। वाह! क्या रौनक बिखरी है बाजार में..धनतेरस की रौनक के आगे जीएसटी की…

जीएसटी लागू होने के पहले दिन शनिवार को मॉल्स में ऑफर, बाजारों में सन्नाटा

कानपुर कार्यालय संवाददाताजीएसटी लागू होने के पहले दिन शनिवार को साउथ एक्स समेत शहर के कई मॉल्सों में खरीदारी कम और नए कर से जुड़े सवाल ज्यादा पूछते नजर आए शहरी। इससे साफ है कि लोग असमंजस में हैं कि जीएसटी लागू होने से वह फायदे में हैं या उनकी जरूरतों की चीजों के दामों…

बंदी की कगार पर पहुंचा शहर का कारोबार

कानपुर। औद्योगिक नगरी के उद्यमियों ने केन्द्र सरकार के इस फैसले का स्वागत किया है, लेकिन 12 दिन बीतने के बाद अभी तक नकदी संकट होने से व्यवस्थाओं पर सवाल भी किए हैं। उद्यमियों ने कहा कि उद्योगो में कारोबार न होने के चलते उन्हें बैंको द्वारा लिए गए कर्ज के ब्याज का खतरा सता रहा है।

कानपुर। नोट की बंदी की चोट से रसोई की रोज की जरूरत का ख्याल रखने वाली मंडियां ठंडी पड़ी हैं।

कानपुर। नोट की बंदी की चोट से रसोई की रोज की जरूरत का ख्याल रखने वाली मंडियां ठंडी पड़ी हैं।नोटबंदी के ऐलान के नौ दिन बाद भी बाजारों में रौनक नहीं लौट पाईहै। आलम यह है फल से लेकर सब्जी और गल्ला जैसी जरुरत की मंडियों में भी सन्नाटा पसरा है

कानपुर। धनतेरस के पर्व पर धनवर्षा से चहक उठे बाजार

कानपुर। धनतेरस के पर्व पर सजे हुए बाजार। घर में लाओ आज कुछ, नए-नए उपहार। झालर-दीपों से सजे, आज सभी के गेह। मन के नभ से आज तो बरसे मधुरिम नेह। डॉ रूपचंद्र शाी की ये पंक्तियां शुक्रवार को शहर के बाजारों में जीवंत दिख रही थीं। किसी भी बाजार में कदम रख दीजिए खुशियां बिखरी हुई थीं। बनखंडेश्वर मंदिर चौराहे पर फूल बेच रही मालिन के चेहरे पर भी खुशी थी और नवीन मार्केट के पास गुब्बारा बेच रहा भोलू भी चहक रहा था। ऐसा इसलिए कि उनके हाथों से सामान झटपट बिक रहा था और जेब में चार पैसे जा रहे थे। धनतेरस पर इस तरह का नजारा सिर्फ प्रमुख बाजारों में ही नहीं था बल्कि मोहल्लों की छोटे-छोटे बाजारों में भी ग्राहकों की भीड़ थी। उल्लास में डूबे पर्व की लाइव रिपोर्ट..

कानपुर :डिजाइनर साड़ियां, इंडो वेस्टर्न, वे¨डग गाउन सूट और लहंगों से करवाचौथ का बाजार पट गया

डिजाइनर साड़ियों का गढ़ कहे जाने वाले कानपुर के जनरलगंज थोक मार्केट में ग्राहकों के साथ गैर जनपदों के व्यापारी भी खूब खरीदारी कर रहे हैं। इसके साथ ही गोविन्द नगर, पी रोड, नवीन मार्केट, पीपीएन मार्केट, लालबंगला, दर्शन पुरवा, पुरानी दाल मंडी नयागंज, स्वरूप नगर, आर्य नगर, कर्रही, किदवईनगर, कल्याणपुर जैसी रिटेल मार्केट में भी साड़ियों और लहंगों की बड़ी रेंज मौजूद है। पिछले वर्ष सूखे और मंदी के चपेट में बाजार आने से कारोबार काफी प्रभावित हुआ था।